Marathi माध्यम से Medical शिक्षा 2023 तक, राज्य सरकार का बड़ा फैसला; ‘यह’ शाखाओं समेत

Marathi माध्यम से Medical शिक्षा

Marathi माध्यम से Medical शिक्षा शिक्षा, राज्य सरकार का बड़ा फैसला

Medical Education: हिंदी के माध्यम से मेडिकल शिक्षा प्रदान करने का मध्य प्रदेश सरकार का निर्णय है। वहीं अब मराठी के माध्यम से Marathi Medical Education की सुविधा महाराष्ट्र में भी उपलब्ध कराने जा रही है। इस बारे में Medical Education मंत्री गिरीश महाजन ने पत्रकार परिषद में बात करते हुए बताया हैं। तो अब ग्रामीण क्षेत्रों के छात्रों के लिए मराठी भाषा में मेडिकल शिक्षा प्राप्त करना आसान होगा। यह सुविधा शैक्षणिक वर्ष 2023 से उपलब्ध होगी।

MBBS के साथ इन शाखाओं का अध्ययन।

इससे छात्रों को आयुर्वेद (Ayurveda), होम्योपैथी (Homeopathy), डेंटिस्ट्री (Dentistry), नर्सिंग (Nursing), फिजियोथेरेपी (Physiotherapy) के साथ एमबीबीएस (MBBS) जैसे कोर्स मराठी में उपलब्ध कराए जाएंगे। ये पाठ्यक्रम शैक्षणिक वर्ष 2023 से मराठी में उपलब्ध होंगे। विशेष रूप से, मराठी में मेडिकल शिक्षा लेना अनिवार्य नहीं होगा, यह वैकल्पिक होगा।

महाजन ने इस अवसर पर कहा कि मध्य प्रदेश के बाद अब महाराष्ट्र में हम राज्य भाषा यानी मराठी भाषा में मेडिकल शिक्षा प्रदान करने का प्रयास कर रहे हैं और हम मराठी में Homeopathy और MBBS तक के सभी पाठ्यक्रम उपलब्ध कराने का प्रयास कर रहे हैं। यह निर्णय ग्रामीण क्षेत्रों में अंग्रेजी को लेकर छात्रों की हीन भावना को दूर करने के लिए लिया गया है। महाजन ने यह भी कहा कि इस संबंध में समितियों का गठन किया गया है और हम अगले शैक्षणिक वर्ष से इस निर्णय को लागू करने का प्रयास कर रहे हैं। इस निर्णय से ग्रामीण क्षेत्रों के छात्रों को लाभ होगा।

मराठी में पढ़ना अनिवार्य नहीं है।

नए शैक्षणिक वर्ष से मराठी मेडिकल शिक्षा की सुविधा राज्य सरकार द्वारा प्रदान की जाएगी। इससे ग्रामीण छात्रों की शिक्षा की राह कुछ आसान होगी। लेकिन मेडिकल की शिक्षा मराठी में लेना अनिवार्य नहीं होगा। छात्रों को अपनी पसंद की भाषा चुनने की अनुमति होगी।

टाटा एयरबस परियोजना के बारे में बात करने से परहेज किया।

टाटा एयर बस परियोजना को गुजरात की ओर मोड़ने के कारण विरोधियों की ओर से काफी आलोचना भी हुई है, लेकिन गिरीश महाजन इस बारे में बात करने से बचते रहे हैं।

मध्य प्रदेश हिंदी में मेडिकल शिक्षा प्रदान करने वाला पहला राज्य है।

भोपाल में मेडिकल शिक्षा का हिंदी पाठ्यक्रम शुरू किया गया है। हाल ही में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाहा ने हिंदी में मेडिकल शिक्षा प्रदान करने के लिए मध्य प्रदेश सरकार की एक महत्वाकांक्षी योजना शुरू की है। अमित शाहा द्वारा हिंदी पाठ्यक्रम पाठ्यपुस्तक का अनावरण किया गया।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top